भारत में परिवहन और कुछ प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग और रेल परिवहन आदि के बारे में जाने

राष्ट्रीय राजमार्ग क्या होता है जाने।

भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग इसके निर्माण प्रबंधन एवं रखरखाव की जिम्मेदारी भारत सरकार द्वारा निभाई जाती है इनका नियंत्रण केंद्रीय लोक निर्माण विभाग द्वारा किया जाता है भारत 2018 के अनुसार राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लंबाई 1,03,933km यह संपूर्ण भारत देश के सड़कों की कुल लंबाई का लगभग 1.9% है जो सड़क परिवहन का लगभग 40% यातायात संपन्न कराती है भारत का सबसे लंबा राष्ट्रीय राजमार्ग -7 है जो उत्तर प्रदेश में 128km कोमा मध्य प्रदेश में 504km महाराष्ट्र में दो तो 32km आंध्र प्रदेश में 753km और कर्नाटक में 125km तथा तमिलनाडु में 627km राष्ट्रीय राजमार्ग की लंबाई है।

राज्य राजमार्ग कैसे होते हैं।

भारत के राज्य राजमार्ग का निर्माण एवं रखरखाव की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है राज्यों के राज्य मार्ग की लंबाई वर्तमान में 1,42,687 किलोमीटर है १. भारत में सड़कों का सर्वाधिक घनत्व केरल (5,268,69 किमी .पृति1,000 वर्ग किमी. क्षेत्रफल) में तथा सबसे कम जम्मू कश्मीर में है। २. भारत में राज्यों में सड़क मार्ग की लंबाई में प्रथम स्थान महाराष्ट्र का है। ३. सड़क निर्माण क्षेत्रफल में निजी भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने बनाओ चलाओ और हंस का चरित्र (B.O.T)की नीति अपनाई ।

भारत के रेल परिवहन निगम।

भारतीय रेल एशिया की सबसे बड़ी तथा विश्व की तीसरी सबसे बड़ी रेल व्यवस्था है भारत में सर्वप्रथम रेल व्यवस्था की शुरुआत अप्रैल 18 सितंबर में मुंबई से थाने के बीच प्रारंभ हुई थी वह रेल 34 किलोमीटर चली थी विश्व की सबसे पहली रेलगाड़ी 18 से 25 ईसवी में स्टोर को टर्न और डार्लिंगटन के बीच चली थी इसके बाद 1830 में लिवरपूल और मैनचेस्टर को आपस में रेल मार्ग से जोड़ दिया गया था भारतीय रेलवे बोर्ड की स्थापना मार्च उन्नीस सौ 5 ईसवी को की गई थी भारतीय रेल प्रशासन तथा प्रबंधन की जिम्मेदारी रेलवे बोर्ड पर है रेलवे को 17 मंडलों में बाटा गया था प्रत्येक मंडल का प्रधान महाप्रबंधक होता है देश में सबसे लंबी दूरी तय करने वाली रेलगाड़ी विवेक एक्सप्रेस है और यह रेलगाड़ी लगभग 4286 किलोमीटर की दूरी इसने तय की थी और इससे पूर्व हिमसागर एक्सप्रेस जो जम्मू से लेकर के कन्याकुमारी तक जाती है और यह रेलगाड़ी 376 किलोमीटर चली थी और नीचे देखें रेल परिवहन।

Leave a comment